होम     साइट मैप     English

NORTH EASTERN REGIONAL POWER COMMITTEE
Government of India

उत्तर पूर्वी क्षेत्रीय विद्युत समिति
भारत सरकार

NERPC - logo
  • Banner
  • Banner
  • Banner
  • Banner
  • Banner
होम
राजभाषा नीति
सूचना का अधिकार अधिनियम
एनईआर के पावर मानचित्र
सीईआरसी के आदेश
सीईआरसी विनियमावली
सीईए विनियमावली
लेखागार
निविदाएं
फोटो गैलरी
हमसे संपर्क करें
आपके सुझाव
साइट मैप

Nature

परिचय
विद्युत अधिनियम, 2003 के अनुसार, क्षेत्र में विद्युत व्यवस्था की एकीकृत संचालन की सुविधा के लिए निर्दिष्ट क्षेत्र (ओं) के लिए केन्द्र सरकार द्वारा क्षेत्रीय विद्युत समितियां (RPCs) गठित किया गया है. क्षेत्रीय विद्युत समिति (RPC) का सचिवालय की अध्यक्षता सदस्य सचिव, जो केन्द्रीय विद्युत प्राधिकरण (सीईए) द्वारा, RPC सचिवालय के लिए अन्य स्टाफ के साथ नियुक्त किया जाता है, की जाती है. विद्युत अधिनियम, 2003 की धारा 29 (4) के तहत, इस क्षेत्र में क्षेत्रीय विद्युत समिति समय समय पर, एकीकृत ग्रिड के स्थिरता और सुचारु संचालन की कार्यकुशलता और अर्थव्यवस्था संबंधित मामलों को निश्चित कर सकती है.

क्षेत्रीय विद्युत समिति (RPC) के लिए निम्नलिखित कार्य जो कि प्रणाली के स्थायित्व एवं सुचारू संचालन सुविधाजनक बनाने हेतु पहचानित किए गए हैं:

  1. ग्रिड के प्रदर्शन में सुधार के लिए क्षेत्रीय स्तर का कार्य विश्लेषण करना.
  2. अन्तरराज्यीय/अन्तरक्षेत्रीय विद्युत पारेषण की सुविधा प्रदान करना.
  3. CTU/STU के साथ अन्तरराज्यीय/अन्त:राज्यीय पारेषण प्रणाली से संबंधित सभी कार्यों की योजना को सुविधाजनक बनाना.
  4. क्षेत्र में विद्युत की आपूर्ति के लिए वार्षिक आधार पर उन सभी अन्तरराज्यीय उत्पादक कंपनियों के साथ विभिन्न उत्पादन कंपनियों के उत्पादन मशीनों के रखरखाव के नियोजन का समन्वय करना एवं मासिक आधार पर रखरखाव कार्यक्रम की समीक्षा करना.
  5. वार्षिक / मासिक आधार पर पारेषण प्रणाली के आउटेज की योजना बनाना.
  6. ग्रिड के स्थिर संचालन के लिए सुरक्षा के अध्ययन सहित संचालन योजना का अध्ययन करना.
  7. प्रणाली की अध्ययन समिति द्वारा प्रतिक्रियाशील प्रतिफल की आवश्यकता की समीक्षा के माध्यम से उचित वोल्टेज को बनाए रखने के लिए और स्थापित संधारित्रों के निगरानी के लिए, योजना बनाना.
  8. क्षेत्र में विद्युत व्यवस्था के संचालन में दक्षता और अर्थव्यवस्था से संबंधित सभी मुद्दों पर आम सहमति तैयार करना.

क्षेत्रीय विद्युत समिति (RPC) का निर्णय सर्वसम्मति से क्षेत्रीय ग्रिड के संचालन और विद्युत समयबद्धन और प्रेषण के आपरेशन के लिए, IEGC / सीईआरसी विनियमों के प्रावधानों के तहत (जो कि असंगत न हों) पहुंचता है, यह निर्णय संबंधित RLDC/SLDC/CTU/STU और उपयोगकर्ताओं द्वारा केन्द्रीय आयोग के दिशा निर्देशों के अधीन अनुकरणीय होंगे.

सदस्य सचिव, क्षेत्रीय विद्युत समिति (RPC), पारेषण शुल्क के भुगतान के उद्देश्य के लिए पृथक - पृथक क्षेत्रीय एसी और एचवीडीसी प्रणाली के लिए ट्रांसमिशन पारेषण प्रणाली उपलब्धता कारक प्रमाणित करेंगे.

क्षेत्रीय विद्युत समिति (RPC) का सचिवालय अथवा आयोग द्वारा अधिसूचित किसी अन्य व्यक्ति के रूप में समय समय पर, मासिक क्षेत्रीय विद्युत खाता, साप्ताहिक अनिर्धारित आदान खाते, प्रतिक्रियाशील विद्युत खाता एवं संकुलन प्रभार खाता, जो RLDC द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों पर आधारित है, और अक्षय विनियामक प्रभार, जो राज्य/क्षेत्र के SLDC/RLDC द्वारा (जहाँ हवा जनरेटर स्थित है) उपलब्ध कराए गए आंकड़ों पर आधारित है, और आयोग द्वारा विनिर्दिष्ट बिलिंग और विभिन्न प्रभार के भुगतान के उद्देश्य के लिए किसी अन्य प्रभार, को तैयार करेगा.

बैठकें

 15वी प्रतिलिपि बैठक के लिए कार्यसूची आइटम्स

 59वी प्रतिलिपि बैठक के लिए कार्यसूची आइटम्स

नवीनतम ऊर्जा लेखा

31.01.11 - 06.02.11 के लिए संशोधित यूआई खाता जारी

07.02.11 - 13.02.11 के लिए आरई खाता जारी

31.01.11 - 06.02.11 के लिए आरई खाता जारी

07.02.11 - 13.02.11 के लिए यूआई खाता जारी

31.01.11 - 06.02.11 के लिए यूआई खाता जारी

मई 2010 से दिसम्बर 2010 के महीने के लिए संशोधित आरईए जारी

जनवरी 2011 के लिए क्षेत्रीय ऊर्जा लेखा जारी

सामान्य

मासिक प्रगति रिपोर्ट दिसंबर 2010 के लिए जारी किए

आप आगंतुक हैं :